इस्तीफे के नाम पर हार्दिक पटेल का राहुल गांधी पर बड़ा हमला !

कांग्रेस के मिशन गुजरात को बड़ा झटका लगा है। पटेल आरक्षण आंदोलन से नेता बने हार्दिक पटेल ने कांग्रेस के सभी पदों और प्राथमिक सदस्यता से इस्तीफा दे दिया है। उन्होंने कांग्रेस अध्यक्षा सोनिया गांधी को पत्र लिखकर इस्तीफा दिया है और सोशल मीडिया पर इसे पोस्ट किया है। उन्होंने अपने त्याग पत्र में कांग्रेस पर देशहित के खिलाफ काम करने का आरोप लगाया है।

राहुल गांधी के खिलाफ हार्दिक की भड़ास !

हार्दिक पटेल ने कांग्रेस नेता राहुल गांधी के खिलाफ भड़ास निकाली है। उन्होंने इशारों ही इशारों में राहुल गांधी पर गंभीर आरोप लगाया है कि उनका ध्यान गुजरात के लोगों की समस्याओं से ज्यादा अपने मोबाइल पर रहता है। उन्होंने यह भी लिखा है कि जब देश संकट में था तब कांग्रेस का नेतृत्व विदेश में था। हार्दिक ने कांग्रेस नेतृत्व पर गुजरात और गुजरात के लोगों से नफ़रत करने का आरोप लगाया है। उन्होंने कांग्रेस पर गुजरातियों का अपमान करने और युवाओं का भरोसा तोड़ने का इल्ज़ाम भी लगाया है।

हार्दिक पटेल ने कांग्रेस पर राम मंदिर, CAA-NRC, जम्मू-कश्मीर से धारा 370 हटाने के रास्ते में बाधा डालने का आरोप लगाया है। हार्दिक ने लिखा कि कांग्रेस के नेतृत्व के पास देश का कोई रोडमैप नहीं है इसलिए जनता उसे रिजेक्ट कर रही है।

हार्दिक पटेल ने लिखा है कि कांग्रेस महज़ विरोध की राजनीति करती है जबकि देश के लोगों को एक ऐसा विकल्प चाहिए जो उनके भविष्य के बारे में सोचता हो।

हार्दिक पटेल के इस्तीफे के मायने

हार्दिक पटेल का कांग्रेस से जाना तय था। इस बात के लक्षण उनके उदयपुर में कांग्रेस के नव संकल्प शिविर में न पहुंचने से ही मिल गए थे। हार्दिक पटेल के इस्तीफे से एक बात साफ है कि वो कांग्रेस के साथ अपने रिश्ते को हमेशा के लिए तोड़ रहे हैं वरना इतना तीखा त्यागपत्र नहीं लिखते।

साथ ही ये भी माना जा सकता है कि उनके त्याग पत्र को इस साल होने वाले गुजरात विधानसभा में कांग्रेस को खारिज करने के लिए लिखा गया है। इस्तीफे का मकसद जनता में कांग्रेस नेतृत्व की छवि को तहस-नहस करना है।

हार्दिक पटेल ने जिस तरह से राहुल गांधी पर अपनी भड़ास निकाली है और बीजेपी के मुद्दों की तारीफ की है उससे ऐसा भी लगता है कि हार्दिक पटेल की भाजपा में जाने की तैयारी है। इस्तीफे की भाषा ठोस तौर पर राजनीतिक है और इसे राजनीतिक फायदे के लिए लिखा गया है।

हार्दिक पटेल को राहुल गांधी गुजरात में भविष्य की राजनीति के लिए कांग्रेस में लाए थे। हार्दिक पटेल से पहले ज्योतिरादित्य सिंधिया, सुष्मिता देव और जतिन प्रसाद जैसे नेता राहुल गांधी को धोखा दे चुके हैं। ऐसे में राहुल गांधी की लोगों को पहचानने की क्षमता पर सवाल उठता है।

फिलहाल राहुल गांधी के एक और घोड़े ने रेस में दौड़ने से इनकार कर दिया है। बल्कि इस घोड़े ने कांग्रेस को ही अड़ंगी लगा दी है। अब देखना होगा कि कांग्रेस इस झटके से कैसे उबरती है और हार्दिक पटेल के हमले पर कैसे पलटवार करती है।

Leave a Reply

Your email address will not be published.