जनता पर मुसीबत आये तो अंडरग्राउंड हो जाते है आप के विधायक और नेता: बीजेपी पार्षद रणधीर कुमार

भारतीय जनता  पार्टी के पार्षद रणधीर कुमार ने आम आदमी पार्टी के क्षेत्रीय विधायक और नेताओ पर निशाना साधते हुआ कहा की इस पार्टी के शीर्ष नेतृत्व और कार्यकर्ता जैसे जनता पर मुसीबत आती है , वो अंडरग्राउंड हो जाते हैं|  दैनिक नवोदय से एक खास बातचीत में भाजपा पार्षद ने कहा की मुसीबत की इस घडी में वो जनता के साथ और उनकी मदद के लिए वो हमेशा तत्पर हैं |  

दैनिक नवोदय:  मौजूदा स्थित कइ मद्देनज़र जहां  एक ओर कोरोना का कहर अपने चरम पर है, लोगों में भय का माहौल है वही कइयों को रोजी रोटी के जाने का भी डर  सता रहा है, और आपकी ऒर से क्या  प्रयास किये जा रहे हैं ?

रणधीर : २०२० में जब ये त्रासदी अपने विकट  रूप में थी , लोग अपनों से भी मिलने से कतराते थे, और हमारे विकासपुरी क्षेत्र के विधायक का दो महीने तक दफ्तर नहीं खुला था , उस वक़्त मेरा ये ऑफिस २४ घंटे खुला हुआ था और जनता की किसी भी तरह की सेवा के लिए मई उपलभ्ध था | ६९ दिनों तक तो मैं अपने घर नहीं गया था |   मै इसी ऑफिस में रहता था | और इस बार भी मैंने आज से ये प्रक्रिया शुरू कर दी है, बी ब्लॉक और ए ब्लॉक एक्सटेंशन में sanitisation का काम चल रहा है|  जैसे ही कोरोना के केस बढ़ने शुरू हुए हैं ना ही केजरीवाल जी और न उनके किसी मंत्री के कोई स्टैटमेन्ट आ रहा है और जैसे ही स्थिति काबू में आ जाएगी वो सभी एक – एक कर के मीडिया में आना शुरू हो जायेंगे | कहाँ गए केजरीवाल जी आज अस्पतालों में एक बेड पर दो- दो मरीज हैं |

दैनिक नवोदय:  आपके क्षेत्र  में भी कई  कोरोना के मामले सामने आये हैं , कई- कई पुरे परिवार ही संक्रमित पाए गए हैं , तो ऐसी फैमिलीज़ को मदद के लिए आप ने क्या कदम उठाये हैं ?

रणधीर:  मैंने इलाके के कार्यकर्ताओ और RWAs  के माध्यम से कहा है की अगर क्षेत्र में ऐसा कोई भी मामला है तो मै हरसंभव मदद के लिए तैयार हु | ऐसे सभी घरो और पड़ोस में छिड़काव और सफाई का विशेष ख्याल रखा जायेगा |

दैनिक नवोदय:  कोरोना मामलों की बढ़ती संख्या को देखते हुए ऐसा लग रहा है एक बार फिर से lockdown लग सकता है | मध्यम और निम्न वर्ग के लोगो के लिए रोजी रोटी की समस्या कड़ी हो सकती है | पिछ्ले साल जो हुआ उसे रोकने के लिए आप क्या प्रयास करे रहे हैं ?

रणधीर:  दिल्ली में तीन लेयर की सरकार है, एक केंद्र की है , एक राज्य स्तर की और तीसरी निगम की| केंद्र जो भी राशन मुहैया करता है वो राज्य सरकार को देती है , तो ऐसे में राज्य सरकार की जिम्मेदारी है की जनता भूखी ना मरे | केंद्र सरकार द्वारा मिले राशन पर दिल्ली की सरकार अपना नाम लिखकर राजनीति करती है | अभी जब पूरा देश कोरोना की महामारी से जूझ रहा तो हमारे मुख्यमंत्री और विकासपुरी क्षेत्र के विधायक अंडरग्राउंड हो चुके हैं | वही हमारे कार्यकर्ता ग्राउंड में रह कर जनता की मदद कर रहे हैं |

दैनिक नवोदय: पूरे विकास नगर में सड़कों की दुर्दशा, नालियों की  सफाई, ओवरफ्लो होती गन्दा पानी| कब मिलेगी जनता को इन समस्याओं  से निजात ?

रणधीर: विकास नगर १०० परसेंट अनधिकृत कोलोनी का बना हुआ वार्ड है | ऐसी कॉलोनियों में ये सब काम क्षेत्रीय विधायक का  है | पुरे इलाके में  एक भी नाली ढंग से नहीं बनी हैं | जहाँ पर विधायक प्लाट काट रहा है वह सभी सुविधाएं उपलब्ध हो रही हैं…… सीवर डल रहा है, नालियां बन रही हैं | ये सभ इसलिए की वह के रेट ज़्यादा बढ़ें|   लेकिन जहाँ पैर पिछले २५ सालों से लोग बसे हुए हैं , वहां पर जनता को देने के लिए उनके पास कुछ भी नहीं है |  सीवर के नाम पर  जनता से पहले ही आप सरकार करोड़ों रुपये वसूल चुकी है… लेकिन आप दिखा दीजिये अभी तक कहीं भी सीवर लाइन चालू हुई हो , चालू होने तो दूर अभी तक पूरी तरह से पाइप लाइन भी नहीं डाली गयी है | खेरी बाबा पुल  से लेकर DAV स्कूल तक सड़क की हालत आप देख लीजिये | अब आप बताइये इस सड़क को बनवाना किसका काम है | चुनाव के समय केजरीवाल जी शिव विहार में प्रचार के लिए आये थे और कहा था की १६ महीने में विकास नगर को विकासपुरी से भी बेहतर कर देंगे |

दैनिक नवोदय: राज्य स्तर पर और निगम में अलग -अलग पार्टियां सत्ता में हैं और इनके बीच की रस्साकसी में जनता बेचारी पिस जाती है |

रणधीर: २०१३ में जब केजरीवाल जी अन्ना हजारे जी के साथ अनसन पैर बैठे थे और उन्होंने कहा की उनके पास शीला दीक्षित जी, बिजली कंपनियों और निगम में भष्टाचार के खिलाफ फाइलें हैं। सत्ता में आते ही वो सभी फाइलें जाने कहाँ गायब हो गयीं | खुद को वो दिल्ली का बेटा बता कर सरकार में आये और उसके बाद फिर सत्ता का सुख भोगने में लीन  हो गए| 

(आगामी निगम चुनावों… बीजेपी संसद प्रवेश वर्मा के अपने क्षेत्र में कम आने और खुद से सम्बंधित कई निजी सवालों पर जवाब देंगे रणधीर इस बातचीत के अगले भाग )

Leave a Reply

Your email address will not be published.