जब सात घंटे मुर्दाघर के फ्रीज़र में पड़ी रहने के बाद जिन्दा हो गयी लाश

कहते हैं .... जाको राखे साइयां मार सके न कोय और ऐसा ही कुछ हुआ मुरादाबाद…